Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

मिदनापुर में सुवेंदु व तृणमूल के समर्थक भिड़े, पथराव में कई घायल

- Sponsored -

मिदनापुर : पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में राजनीतिक हिंसा जारी है। सूबे के पूर्वी मिदनापुर में सुवेंदु अधिकारी और टीएमसी के समर्थकों के बीच भिड़ंत हो गयी है। गौरतलब है कि सुवेंदु अधिकारी ने हाल ही में टीएमसी छोड़कर भाजपा का दामन थामा है। राजनीतिक हिंसा का यह मामला सुवेंदु अधिकारी के गढ़ माने जाने वाले इलाके मिदनापुर में हुई है। बताया गया है कि अधिकारी के समर्थकों के साथ भाजपा कार्यकर्ता पूर्वी मिदनापुर के रामनगर में एक रैली निकाल रहे थे। इस दौरान भाजपा के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर सत्तारूढ़ पार्टी के समर्थकों की तरफ कुछ इशारे किये जो अपने पार्टी कार्यालय के पास इकट्ठे हुए थे। वहीं, इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया, जो देखते ही देखते हिंसक हो गया। बताया गया है कि पुलिस ने हस्तक्षेप किया, लेकिन दोनों पक्षों के पथराव में कई लोगों के घायल होने की खबर है। दूसरी तरफ, रामनगर को टीएमसी के गढ़ के रूप में जाना जाता है। इससे पहले भी सुवेंदु अधिकारी ने अपने ऊपर हमलों की बात कही है। हाल ही में केंद्र सरकार ने सुवेंदु अधिकारी को जेड कैटेगरी की सुरक्षा मुहैया करायी है। इस दौरान उन्होंने बताया था कि पिछले कुछ समय से उन पर करीब एक दर्जन हमले किये गये।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को रैली के दौरान तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के पूर्व नेता सुवेंदु अधिकारी ने भाजपा का दामन थाम लिया। सुवेंदु अधिकारी को रैली में मंच पर अमित शाह के बगल में जगह दी गयी। सुवेंदु अधिकारी के साथ कई पार्टियों के नौ विधायक और एक टीएमसी सांसद भी भाजपा में शामिल हुए। दूसरी तरफ, पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी व कानूनी तैयारियां शुरू हो गयी हैं। वहीं, राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा है कि राज्य में चुनावों के दौरान राजनीतिक हिंसा हो सकती है। इस आशंका के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर गुहार लगायी गयी है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित कराये जायें। याचिका में मांग की गयी है कि राज्य में विपक्षी पार्टी के नेताओं की सुरक्षा भी सुनिश्चित की जाये।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -